Tuesday, February 22, 2011

दोस्ती क्या हैं

दोस्ती एक एहसास है मुहब्बतों का

दोस्ती हर गम साथ चला करती है

दोस्ती साये के मानिंद हवा करती है

दोस्ती दुःख भरे जज्बात का हिस्सा है

दोस्ती खुशिओं के लम्हात का हिस्सा है

दोस्ती क़ुरबानी का दूसरा नाम है

दोस्ती अल्लाह का अनोखा पैगाम है

दोस्ती सुबह की हवाओं सी होती है

दोस्ती महकती फिजाओं सी होती है

दोस्ती फूलों की खुशबु सी होती है

दोस्ती सपनो की एक जादू सी होती है

दोस्ती दोस्तों की वफाओं से होती है

दोस्ती के सुरों का संगीत होती है

दोस्ती सब को प्यार करना सिखाती है आपस में

दोस्ती लड़ना और झगड़ना सिखाती है आपस में

सारे दोस्तों को बस यही कहना है

दोस्ती की हर शान कभी कम होने न देना

चाहे जान पर ही क्यों न आ जाए, कुछ भी हो

जज़्ब - ए - दोस्ती को कभी बदनाम न होने देना...

4 comments: